Blessed are the peacemakers
धन्य हैं वे, जो मेल करवाने वाले हैं। धन्यवचन 7 Blessed are the peacemakers – Beatitudes (7)

धन्य हैं वे, जो मेल करवाने वाले हैं, क्योंकि वे परमेश्वर के पुत्र कहलाएंगे। मत्ती 5ः9 Blessed are the peacemakers, for they will be called sons of God.(matthew 5:9)

आमतौर पर शांत, चुपचाप और बैर नही करना होना ही शांति माना जाता है। हालाँकि, परमेश्वर की दृष्टि में शांति सभी की भलाई की खोज करना है, पहले दूसरों पर ध्यान करना है, और निष्पक्ष होकर सत्य के भीतर किसी भी पक्ष के साथ ठीक होना है। इसमें आत्म-बलिदान की आवश्यकता है, और इस प्रकार, शांति का आत्मिक अर्थ अपने जीवन को देने के बिंदु तक अपने आप को बलिदान करना है।

  1. मेलकराने वाले।

एक बार जब हम परमेश्वर में विश्वास कर लेते हैं और सत्य सीख लेते हैं, तो आमतौर पर हम जानबूझकर शांति भंग नहीं करते। हालाँकि, जब तक हमारे अंदर स्वयं की धार्मिकता है, हम अनजाने में शांति भंग करते हैं। हम इसे आसानी से देख सकते हैं कि यदि हम जांचते हैं कि क्या हम दूसरों को खुश करने की कोशिश कर रहे हैं या नहीं या वे हमें खुश करने की कोशिश कर रहे हैं। हम अक्सर देख सकते हैं कि स्वंय की धार्मिकता के कारण छोटी-छोटी बातों पर शांति भंग हो जाती है।

इसलिए, हमें पहले यह देखना होगा कि हम दूसरे के हित की सेवा करते हैं या नहीं और हम अपनी राय पर जोर देते हैं या नहीं, जब तक कि इसे स्वीकार नहीं किया जायें, यह जानते हुए कि आपकी वजह से दूसरों को कठिन महसूस हो रहा है। हमें यह भी जांचना चाहिए कि क्या हम सोच रहे हैं कि दूसरों को हमारी राय माननी चाहिए क्योंकि हम उम्र या पद में वरिष्ठ हैं। फिर, हम जाँच सकते हैं कि हम मेलकराने वाले हैं या नहीं।

आम तौर पर, हमारे लिए उन लोगों के साथ शांति से रहना आसान होता है जो हमारे लिए अच्छे हैं। तथापि, परमेश्वर कहता है कि हमें पवित्रता का अनुसरण करना है और सबके साथ मेल रखना है (इब्रा० 12:14)। भले ही हम बिल्कुल सही हों, अगर हमारी धार्मिकता दूसरों को कठिनाई महसूस कराती है, तो हमें यह समझना चाहिए कि यह परमेश्वर की दृष्टि में सही नहीं है।

  1. सबके साथ मेल मिलाप रखने के लिए।

सबसे बढ़कर, हमें सबसे पहले परमेश्वर के साथ शांति बनाकर रखनी चाहिए।

परमेश्वर के साथ शांति बनाने का अर्थ है कि परमेश्वर और हमारे बीच में कोई पाप की कोई दीवार नहीं होनी है (यशा. 59ः1-2)। यदि हम यीशु मसीह को स्वीकार करते हैं, तो उसके बहुमूल्य लहू के कारण हमारे सभी पाप क्षमा हो जाते हैं (इफि 1ः7)। यहाँ, परमेश्वर और हमारे बीच पाप की दीवार को नष्ट कर दिया गया है और हमारा परमेश्वर से मेल हो गया है।

हालांकि, अगर हम इस घटना के बाद भी पाप करते रहें, तो इसका मतलब है कि हम फिर से पाप की दीवार बना रहे हैं। हम बाइबल से सीख सकते हैं कि जीवन की सभी समस्याएं पाप के कारण आती हैं। जब यीशु ने लकवाग्रस्त व्यक्ति को चंगा किया, तो उसने पहले पापों को क्षमा किया। 38 वर्ष से रोगी को चंगा करने के बाद, उसने यूहन्ना 5ः14 में कहा, देख, तू चंगा हो गया है, और फिर पाप न करना, ऐसा न हो कि इस से कोई भारी विपत्ति तुझ पर आ पड़े।

इसलिए, जब हम पापों से फिरते हैं और परमेश्वर के वचन के अनुसार जीते हैं, तो हम परमेश्वर के साथ शांति पा सकते हैं और उसकी आशीषें प्राप्त कर सकते हैं। ऐसा करने से हम परमेश्वर की चंगाई भी प्राप्त कर सकते हैं और स्वस्थ हो सकते हैं हम आर्थिक आशीषों के साथ-साथ अन्य हृदय की इच्छाओं को प्राप्त कर सकते हैं।

इसके बाद, हमें अपने साथ शांति रखनी होगी।

जब तक हमारे पास घृणा, ईष्या, बैर आदि जैसी बुराई है, तब तक स्थिति के आधार पर वह बुराई उत्तेजित हो सकती है। इस प्रकार, हम शांति से नहीं रह सकते। एक कोरियाई कहावत है, एक चचेरा भाई जमीन खरीदता है, और मेरा पेट दर्द करता है। यह हमें बताता है कि हम ईष्र्या के कारण पीड़ित हैं। साथ ही, पवित्र आत्मा कराहेगा और हम हृदय में दुख का अनुभव करेंगे।

जब हम यीशु मसीह को स्वीकार करते हैं, पापों की क्षमा प्राप्त करते हैं, और परमेश्वर के साथ मेल-मिलाप करते हैं, परमेश्वर हमें पवित्र आत्मा का दान हमारे हृदय में देता है (प्रेरितों के काम 2ः38)। पवित्र आत्मा हमें परमेश्वर को अपना पिता कहने के योग्य बनाता है और हमें पाप, धार्मिकता और न्याय के बारे में सिखाता है।

जब हम पवित्र आत्मा की सहायता से परमेश्वर के वचन के अनुसार जीते हैं, तो हमारे हृदय में शांति होगी क्योंकि पवित्र आत्मा हम में आनन्दित होता है। तभी हम अपने अंदर शांति प्राप्त सकते हैं। इसके अलावा, यदि हम अपने हृदय से सभी बुराईयों को दूर कर दें, तो हम अपने अंदर पूर्ण शांति भी प्राप्त कर सकते हैं। हम दूसरों के साथ शांति तभी रख सकते हैं जब हमारे भीतर शांति हो।

अंत में, हमें सत्य में सबके साथ शांति रखनी है।

परमेश्वर के राज्य के लिए महान कार्य करने के बजाय, वह पहले चाहता है कि हम उसके हृदय को जानें और ग्रहण करें। जब तक कि यह असत्य का न हो, हमें कभी-कभी दूसरे के कमजोर विश्वास पर विचार करते हुए, सभी के साथ शांति रखनी चाहिए। हम सभी के साथ शांति बना सकते हैं जब हमारे पास आत्मिक भलाई हो जिसके साथ हम टूटे हुए सरकण्डे को नहीं तोड़ते या धुंआ देती हुई मोमबती को नहीं बुझाते।

साथ ही, जब हम अपने आप को सभी प्रकार से पूरी तरह से बलिदान कर देते हैं, हम शांति बना सकते हैं और प्रचुर मात्रा में फल काट सकते हैं (यूहन्ना 12ः24)। हर किसी की अपनी राय और प्राथमिकताएं होती हैं, इसलिए यदि हर कोई अपनी राय पर जोर देता है, तो शांति कभी स्थापित नहीं हो सकती।

जो लोग सभी चीजों में दूसरों का लाभ चाहते हैं, वे जो चाहते हैं उसकी तलाश नहीं करते हैं, लेकिन वो वही करते हैं जो दूसरे चाहते हैं (उत्पत्ति 13)। जब दूसरे उनके गाल पर मारते हैं, तो वे दूसरा गाल भी उनकी तरफ फेर देते हैं। दूसरे जब उनका कुरता लेते हैं, तो वे उन्हें अपनी दोहर भी दे देते हैं। यदि दूसरे उन्हें उनके साथ एक मील चलने के लिए विवश करते हैं, तो वे उनके साथ दो मील जाते हैं (मत्ती 5ः39-41)। वे अपने शत्रुओं से प्रेम करते हैं और उनके लिए प्रार्थना करते हैं जो उन्हें सता रहे हैं।

हमें इस बारे में सावधान रहना है कि हमें सभी के साथ शांति बनाए रखने की कोशिश करते हुए सत्य के भीतर शांति का अनुसरण करना है।

  1. मेल मिलाप करने वालों के लिए आशीषें।

मत्ती 5ः9 कहता है, धन्य हैं वे, जो मेल करानेवाले हैं, क्योंकि वे परमेश्वर के पुत्र कहलाएंगे। यहाँ, पुत्र परमेश्वर की सभी सच्ची संतानों को संदर्भित करता है जिन्हें उसके द्वारा स्वीकार किया जाता है।

जो यीशु मसीह को स्वीकार करते हैं और विश्वास रखते हैं सभी परमेश्वर की सन्तान हैं (यूहन्ना 1ः12), परन्तु उनमें से कुछ वचन का पालन करते हैं जबकि अन्य नहीं करते हैं। परमेश्वर की सच्ची सन्तान को प्रभु के स्वरूप का अनुसरण करना चाहिए (रोमियों 8ः29)। एक व्यक्ति को परमेश्वर का सच्चा पुत्र कहा जा सकता है जब वह अपना बलिदान करता है और सभी चीजों में शांति का अनुसरण करता है। ऐसा व्यक्ति उस आत्मिक सामर्थ और अधिकार का आनंद ले सकता है जो यीशु के पास था (मत्ती 10ः1)।

यीशु ने विभिन्न बीमारियों को चंगा किया, दुष्ट आत्माओं को बाहर निकाला और मृतकों को पुनर्जीवित किया। इसी तरह कैंसर, एड्स, ल्यूकेमिया जैसी लाइलाज बीमारियों को भी चंगा किया जा सकता है। लंगड़ा, अंधा, मृत और गूंगे फिर से चंगे हो जाते हैं। लकवा ठीक हो जाता है और मृत व्यक्ति फिर से जीवित हो जाता है। हमारा विरोधी, शैतान, भय से कांपता है, और जो दुष्ट आत्माओं के द्वारा बंदी बना लिए जाते हैं, वो छुडाये जाते हैं (मरकुस 16ः17-18)। ईश्वरीय चंगाई के समय, स्थान और दूरी को मिटाते हुए समय से परे कार्य होते हैं अन्य असाधारण कार्य रूमाल के द्वारा होते हैं (प्रेरितों के काम 19ः11-12)।

जैसे यीशु ने हवाओं और समुद्र को शांत किया, वैसे ही मौसम की स्थिति को नियंत्रित किया जा सकता है (मत्ती 8ः26-27)। बारिश को रोका जा सकता है, तूफान अपना रास्ता बदल सकते हैं या मर सकते हैं। एक स्पष्ट दिन पर वर्षाधनुष दिखाई देते हैं। ऐसे मेल कराने वाले नए यरूशलेम में परमेश्वर की सच्ची संतान के रूप में महिमा और सम्मान का आनंद लेंगे जहां परमेश्वर का सिंहासन स्थित है।

प्रिय भाइयों और बहनों, क्या आप प्रभु के हृदय से मेलमिलाप करने वाले बनने के लिए अपने आप को बलिदान कर सकते हैं, जिन्होंने क्रूस पर अपना जीवन दिया, ताकि आप महान प्रेम और आशीषें प्राप्त कर सकें, मैं प्रभु के नाम से यह प्रार्थना करता हूं। आमीन ।

धन्यवचन 8 को पढ़ने के लिए यहां – क्लिक करे

वीडियो में संदेशो को सुनने के लिए हमारे Youtube Channel – GCNTVHINDI से जुडे A

Leave a Reply