shanti ke phal ka kya arth hai, pavitra aatma ke phal

पवित्र आत्मा का शांति का फल का क्या अर्थ है – pavitra aatma ka shanti ka fal ka kya arth hai

pavitra aatma ka shanti ka fal ka kya arth hai

पर आत्मा का फल प्रेम, आनन्द, शांति , धीरज, और कृपा, भलाई, विश्वास, नम्रता, और संयम हैं ऐसे ऐसे कामों के विरोध में कोई भी व्यवस्था नहीं।

गलातियो 5:22-23

जैसे नमक स्वाद देता है और चीजों को सड़ने से बचाता है, वैसे ही परमेश्वर चाहता हैं कि विश्वासी अपने पड़ोसियों पर अनुग्रह दिखाऐं और अपने पड़ोसियों को शुद्ध करें और शांति का फल उत्पन्न करें। आइए हम ( pavitra aatma ka shanti ka fal ka kya arth hai jaane )पवित्र आत्मा के 9 फलों में से, तीसरे फल शांति के बारे में जाने।

1.शांति का फल

रोमियों 12ः18 कहता है, जहां तक हो सके, तुम अपने भरसक सब मनुष्यों के साथ मेल मिलाप रखो। इब्रानियों 12ः14 कहता है, सब से मेल मिलाप रखने, और उस पवित्रता के खोजी हो जिस के बिना कोई प्रभु को कदापि न देखेगा। pavitra aatma ka shanti ka fal ka kya arth hai आज हम गहराई से उसके अर्थ के बारे में जानेंगे

यहाँ शांति का तात्पर्य उस हृदय से है जिससे हम दूसरों के सामने झुक सकते हैं, भले ही हम सही हों, और सत्य के भीतर किसी भी चीज को स्वीकार करने और सभी के साथ ठीक से रहने के लिए। यह दूसरों का लाभ खोजना है न कि पक्षपाती होना। खुद का दिखावा न करना और दूसरों की कमियों पर ध्यान न देकर किसी से कोई विवाद न करना।

परमेश्वर की संतान को सभी के साथ शांति से रहना चाहिए। चर्च में शांति का होना और भी जरूरी है। जहाँ शांति भंग होती है, वहाँ परमेश्वर काम नहीं कर सकता, और शत्रु, दुष्ट आरोप लगाएगा। भले ही हम कड़ी मेहनत करें और भला परिणाम दें, अगर इस प्रक्रिया में शांति भंग हुई तो हमारी प्रशंसा नहीं की जा सकती।pavitra aatma ka shanti ka fal ka kya arth hai को आप वीडियो में भी Youtube channel – GCNTVHINDI OR MANMINCENTERDELHI देख सकते है हमारे पर जाएं

उत्पत्ति 26 में, इसहाक ने पलिश्तियों के बीच रहते हुए परमेश्वर की आशीषें प्राप्त की। वहाँ के लोग उससे ईर्ष्या करने लगे और कई बार उसके कुओं को बंद कर दिया।

हालाँकि, इसहाक ने लड़ाई या झगड़ा नहीं किया। वह चुपचाप दूसरी जगह पर चला गया और दूसरा कुआं खोद लिया। जब उसने शांति को बनाकर रखा, तो परमेश्वर ने उसे जहा कहीं भी वह गया, हर जगह कुआं पाने की आशीष दी। पलिश्तियों ने महसूस किया कि परमेश्वर उसके साथ है और अब उसका विरोध नहीं करेगे।

यदि इसहाक अन्याय के कारण उनसे झगड़ा करता या उनसे लड़ाई करता, तो उसे जगह छोड़नी पड़ती। यहां तक कि अगर आप अपने तर्क में एक अच्छा, तार्किक मामला बनाते हैं, तो यह उन लोगों के लिए काम नहीं करेगा जो पहले से ही एक बुरे इरादे से बहस करने की कोशिश कर रहे हैं। इस कारण से इसहाक हर बार झुक गया और शांति का फल उत्पन्न किया।

वही हमारे लिए भी है। जब हम शांति का फल उत्पन्न करते हैं तो परमेश्वर हमें सभी चीजों में समृद्धि की ओर ले जा सकता हैं।

पवित्र आत्मा के और भी फलो के बारे में जानने के लिए यहां – क्लिक करे

2.शांति का फल उत्पन्न करने के लिए क्या करें

1) परमेश्वर के साथ शांति रखें।

परमेश्वर के साथ शांति बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात क्या है? पाप की कोई दीवार नहीं होनी चाहिए।

यदि हम सत्य में चलते हैं, तो हम परमेश्वर के साथ शांति में हैं, और हमें साहस होगा। भले ही हम अभी तक सिद्ध नहीं हैं, जब तक हम अपने विश्वास के माप के भीतर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रहे हैं, हम परमेश्वर के साथ शांति से रह सकते हैं। यदि हम मूर्तियों के सामने झुकते हैं या अविश्वासी परिवार के सदस्यों के साथ शांति स्थापित करने के लिए प्रभु के दिन का पालन करने में विफल रहते हैं, तो यह परमेश्वर के सामने पाप की एक दीवार बनाना है, जिससे परमेश्वर के साथ शांति भंग हो जाती है।

पाप हमारे हृदय में किस प्रकार उत्पन्न होते है जाने – यहां क्लिक करे

जब हम परमेश्वर को प्रसन्न करते हैं तो परमेश्वर हमारे विरोधी शैतान को दूर भगा देता है। वह दुष्टों के मन को बदल सकता है ताकि हम सबके साथ मेल-मिलाप कर सकें (नीतिवचन 16:7)। मान लीजिए आप अपनी तरफ से पूरी कोशिश करते रहते हैं लेकिन दूसरा पक्ष शांति भंग करता रहता है। इस मामले में यदि आप सत्य में कार्य करना जारी रखते हैं, तो परमेश्वर सभी चीजों को भलाई के लिए कार्य करने के लिए प्रेरित करेंगें।

2) अपने साथ शांति रखें।

हमें अपने साथ शांति बनाए रखने के लिए, हमें सभी प्रकार की बुराईयों को दूर करना होगा और पवित्र बनना होगा। जब तक हमारे हृदय में बुराई है, तब तक वह परिस्थितियों के अनुसार उत्तेजित रहेगी। जब हम किसी भी स्थिति में सत्य को चुनते हैं तो हमारे हृदय में शांति होगी।

कुछ लोग परमेश्वर के साथ शांति बनाने के प्रयास में सत्य पर चलने की कोशिश करते हैं, लेकिन उनमें सच्ची शांति नहीं होती है। आम तौर पर यह उनकी स्वयं की धार्मिकता और व्यक्तित्व के ढांचे के कारण होता है जो ठीक नहीं हैं।

उदाहरण के लिए, आपके पास शांति नहीं है क्योंकि आप परमेश्वर के वचन से बहुत अधिक बंधे हुए हैं। आप परमेश्वर के लिए प्रेम के साथ वचन का अभ्यास नहीं करते हैं, लेकिन क्योंकि आप डरते हैं कि यदि आप ऐसा नहीं करेंगे तो आपको दंडित किया जा सकता है। इस मामले में, कार्य पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय, आपको पहले अपने हृदय में परमेश्वर के लिए प्रेम जोतने का प्रयास करना चाहिए।

साथ ही, हो सकता है कि निराशावादी व्यक्तित्व के कारण आपको अपने अंदर शांति न मिले। आप सत्य का अभ्यास करने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन आप स्वयं से संतुष्ट नहीं हैं। आप खुद को पीटते हैं और खुद को पीड़ित करते हैं। इस मामले में आपको एक आत्मिक बालक बनने की जरूरत है।

वो बच्चे जो अपने माता-पिता के प्रेम में विश्वास करते हैं, भले ही उन्होंने कुछ गलत किया हो, वे छिपते नहीं हैं बल्कि क्षमा मांगते हैं। जिन्होंने सचमुच पश्चाताप किया, वे स्वयं की निन्दा करके हिम्मत नहीं हारते। यहां तक कि अगर आप अपने गलत कामों के लिए आजमाइषों का सामना करते हैं, तो वे आशीषों में बदल जाएंगे यदि आप उन्हें आनंद और धन्यवाद के साथ पार करते हैं।

इसलिए, भले ही आप सिद्ध न हो, आपको यह विश्वास करना होगा कि परमेश्वर आपसे प्रेम करता है और आपको तब तक सिद्ध बनाता है जब तक आप स्वयं को बदलने का प्रयास करते हैं। जैसे-जैसे हम परमेश्वर के सामने सच्चे हृदय और कार्यों को इकट्ठा करते रहेंगे, हम अपने आप में शांति और साहस प्राप्त करेंगे।

3) सबके साथ शांति बनाकर रखें।

सबके साथ शांति बनाए रखने के लिए हमें अपना बलिदान करना होगा। पौलुस ने अंगीकार किया मैं हर दिन मरता हूं। हमें सब के साथ शांति बनाए रखने के लिए अपनी बातों, अपनी स्थिति या अपने काम करने के तरीके पर जोर नहीं देना चाहिए।

अगर हम शांति को जोतते हैं, तो हम दूसरों के सामने अनुचित नहीं होंगे या खुद की बडाई करने की कोशिश नहीं करेंगे। हम खुद को नम्र करेंगे और दूसरों की सेवा करेंगे। हम पक्षपाती या एकतरफा नहीं होंगे। हम खुद को दूसरों के स्थान पर रखेंगे, और भले ही हमारी राय बेहतर लगे, हम दूसरों की राय को मानेंगे। हालाँकि, प्रेम पर आधारित सलाह और फटकार उन लोगों के लिए आवश्यक है जो पाप करके अपने आप आप पर विनाष ला रहे हैं।

सभी के साथ शांति बनाए रखने के लिए हमें अपनी स्वयं की धार्मिकता या रूपरेखाओं पर जोर नहीं देना चाहिए। रूपरेखाऐं आपका विश्वास है कि आप सही हैं। यह आपके व्यक्तित्व और स्वाद के आधार पर बनता है। स्वयं की धार्मिकता अपनी रूपरेखाओं को दूसरों पर थोपना है।

हर किसी का व्यक्तित्व, पालन-पोषण, शिक्षा और विष्वास का स्तर अलग-अलग होता है। उन सभी के सही और गलत के अलग-अलग मापदण्ड हैं। हमें अपनी राय पर जोर नहीं देना चाहिए बल्कि दूसरों के दृष्टिकोण से भी सोचना चाहिए, ताकि उन्हें शांति मिल सके।

यीशु ने यह भी कहा कि हम पहले अपने भाइयों के साथ मेल-मिलाप करने के बाद परमेश्वर को भेंट चढ़ाए (मत्ती 5ः23-24)। जिनके पास परमेश्वर के साथ और खुद के साथ शांति है, वे दूसरों के साथ शांति भंग नहीं करेंगे। भले ही दूसरे बुराई करते हैं और शांति भंग करते हैं, वे लगातार सेवा और बलिदान करते रहते हैं, और अंततः शांति बनाए रखते हैं।

3.शांति बनाते समय हमें क्या महसूस करना चाहिए?

शांति का अनुसरण करने के लिए भले षब्द बोलना महत्वपूर्ण है (याकूब 3ः6, नीतिवचन 18ः21)। भलाई के शब्द दूसरों को ताकत और साहस देते हैं। वे आत्माओं को पुनर्जीवित करने के लिए अच्छा उपाय हैं (नीतिवचन 16ः24)। इसके विपरीत, बुरे शब्द शांति भंग करते हैं (2 इतिहास 10)। इसलिए, जब हम केवल भली बातें देखते, सुनते और बोलते हैं, तो हमें शांति मिल सकती है (इफिसियों 4ः29)।

इसके बाद, मान लीजिए कि आपको लगता है कि आप में कोई कठोर भावना नहीं है, और यह दूसरे लोग हैं जो शांति भंग कर रहे हैं। तब भी, क्या यह वास्तव में अन्य लोगों की गलती है? हो सकता है कि आपने बिना सोचे समझे उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचाई हो। आपको वास्तव में इस बारे में सोचना चाहिए कि दूसरे आपको मेलकराने वाला मानते हैं या नहीं।

अंत में, सच्ची शांति को हृदय में बनाए रखना चाहिए। भले ही आप परमेश्वर या स्वयं के साथ शांति में न हों, आप कुछ हद तक दूसरों के साथ शांति से रह सकते हैं। क्योंकि आप जानते हैं कि आपको शांति भंग नहीं करनी चाहिए, आप बस अपनी भावनाओं को नियंत्रित करते है ताकि किसी के साथ मनमुटाव न हो। हालाँकि, बाहरी रूप से शांति होने का मतलब यह नहीं है कि आपने शांति का फल उत्पन्न किया है।

सच्ची शांति पाने के लिए हमें न केवल अपनी भावनाओं को नियंत्रित करना चाहिए बल्कि हमें ईमानदारी से दूसरों की सेवा करनी चाहिए और उनके हितों की।

4.मेल कराने वालों के लिए आशीषें।

जो परमेश्वर के साथ, अपने साथ, और सभी के साथ षांति रखते हैं, उनके पास अंधकार को दूर करने का अधिकार होगा (मत्ती 5ः9)। इस तरह वो शांति फैला सकते हैं।

यीशु की मृत्यु मरते हुए गेहूँ के दाने के समान है जो अनगिनत फल उत्पन्न करता है (यूहन्ना 12ः24)। उन्होंने अनगिनत मरती हुई आत्माओं के पापों की क्षमा के लिए कीमत चुकाई और उन्हें परमेश्वर से मिलवा दिया। परिणामस्वरूप, यीशु राजाओं का राजा और प्रभुओं का प्रभु बन गया और उसे महान आदर और महिमा प्राप्त हुई।

परमेश्वर चाहता है कि उसकी संतान स्वयं को बलिदान करें और यीशु की तरह हर दिन मरें और ऐसा करने से, अधिक फल उत्पन्न करने में सक्षम हों। यीशु ने यूहन्ना 15ः8 में यह भी कहा, मेरे पिता की महिमा इसी से होती है, कि तुम बहुत सा फल लाओ, तब ही तुम मेरे चेले ठहरोगे। इसलिए, आइऐं हम शांति के फल को उपन्न करने और बहुत सी आत्माओं को उद्धार के मार्ग पर ले जाने के लिए पवित्र आत्मा की इच्छा का पालन करें।

इब्रानियों 12ः14 कहता है, सब से मेल मिलाप रखने, और उस पवित्रता के खोजी हो जिस के बिना कोई प्रभु को कदापि न देखेगा। अगर हमें लगता है कि हम सही हैं, अगर दूसरों में कठोर भावनाएँ हैं और संघर्ष उत्पन्न होते हैं, तो हमें क्या करना चाहिए? हमें अपने आपको पीछे मुड़कर देखना चाहिए और पवित्र और बुराई से मुक्त होना चाहिए ताकि हम प्रभु को देख सकें।

मसीह में, प्रिय भाइयों और बहनों, मैं प्रभु के नाम से प्रार्थना करता हूं कि आप परमेश्वर, स्वयं और सभी के साथ शांति का फल उत्पन्न करें ताकि आप इस पृथ्वी पर परमेश्वर की संतान होने के अधिकार के साथ-साथ स्वर्ग में प्रभु को देखने की आशीष प्राप्त कर सकें।

Leave a Reply