धन्य हैं वे जो धर्म के भूखे और प्यासे हैं – धन्यवचन (4) Blessed are those who hunger and thirst for righteousness – Beatitudes (4)
Blessed are those who hunger and thirst for righteousness

धन्य हैं, वे जो धर्म के भूखे और प्यासे हैं, क्योंकि वे तृप्त किये जाएंगे। (मत्ती 5:6)।


सीनियर पास्टर रेव. डा. जेराक ली।

परमेश्वर की धार्मिकता परमेश्वर की इच्छा का पालन करना और परमेश्वर के वचनों का अभ्यास करना है जो स्वयं भलाई और सत्य है। यह हर उस कदम को संदर्भित करता है जिसे हमें तब तक उठाना है जब तक कि हम परमेश्वर की खोए हुए स्वरूप को पूरी तरह से पुनः प्राप्त नहीं कर लेते और पवित्र नहीं हो जाते।

जब हम धार्मिकता के लिए भूखे-प्यासे रहते हैं तो हम हमेशा संतुष्टि का आनंद ले सकते हैं। यह आत्मिक संतुष्टि है। आइऐं इसके बारे में जानते हैं।

  1. धन्य हैं वे जो धर्म के भूखे-प्यासे हैं।

एक कोरियाई कहावत है, अगर कोई तीन दिन बिना खाए ही रह जाए तो वह चोर बन जाएगा। यह हमें भूखे रहने की पीडा के बारे में बताता है। बीते समय में, लोग केवल एक पेड़ की भीतरी छाल या जंगली पौधों की जड़ों से बना दलिया ही खाते थे क्योंकि वे बहुत गरीब थे।

पुराने नियम में, लोगों ने अत्यधिक भूख के कारण अपने बच्चों को भी खा लिया (2 राजा 6:28-29)। लेकिन प्यास को सहना और भी मुश्किल है। जब हम चिलचिलाती गर्मी के दिनों में प्यासे होते हैं, तो हमें चाहते है कि एक घूंट पानी ही मिल जायें।

परमेश्वर चाहते हैं कि उसकी प्रिय संतान परमेश्वर की धार्मिकता को प्राप्त करने की लालसा रखे, जैसे कोई भूखा प्यासा व्यक्ति भोजन और पानी मांगता है। कहने का अर्थ यह है कि, वह हमें उसकी इच्छा को उत्सुकता से खोजने, उसके वचन को अपने हृदय में रखने और उसके अनुसार कार्य करने के लिए कहता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि जो लोग सभी पाप और बुराई को दूर करने के लिए उत्सुक होते हैं, और परमेश्वर के वचनों में बने रहते हैं, प्रभु के सदृष बनते हैं, और ईश्वरीय स्वभाव में समभागी होते हैं, तब वो वास्तव में धन्य व्यक्ति बन सकते हैं।

फिर, आप कितना धार्मिकता की भूख और प्यास महसूस करते हो? क्या आपको लगता है, मैं केवल लगन से चर्च जाने और वचन को सुनने से संतुष्ट हूँ? यद्यपि आपको वचन का व्यापक ज्ञान हो सकता है, यदि आप विश्वास के काम नहीं दिखाते हैं, तो जैसा कि याकूब 2:17 में लिखा गया है, आपका विश्वास मरा हुआ है। ऐसे लोग उन लोगों की तरह होते हैं जो हमेशा भूखे-प्यासे रहते हैं क्योंकि उनके सामने खाना और पानी होने के बावजूद भी वे खाते-पीते नहीं हैं।

  1. वे मनुष्य के पुत्र का मांस खाकर और लहू पीकर ज्योति में कार्य कर सकते हैं।

यूहन्ना 6ः53 में, यीशु ने कहा, यीशु ने उन से कहा मैं तुम से सच सच कहता हूं जब तक मनुष्य के पुत्र का मांस न खाओ, और उसका लहू न पीओ, तुम में जीवन नहीं। यूहन्ना 6:55 में, उसने यह भी कहा, क्योंकि मेरा मांस वास्तव में खाने की वस्तु है और मेरा लहू वास्तव में पीने की वस्तु है। इसका अर्थ है कि मनुष्य के पुत्र, यीशु का मांस और लहू आत्मिक भोजन और पेय है जो हमारी भूख और प्यास को संतुष्ट करता है।

फिर, मनुष्य के पुत्र का मांस खाने का क्या अर्थ है? यूहन्ना 1ः1 कहता है, आदि में वचन था, और वचन परमेश्वर के साथ था, और वचन परमेश्वर था। और यूहन्ना 1ः14 में लिखा है, और वचन देहधारी हुआ और अनुग्रह और सच्चाई से परिपूर्ण होकर हमारे बीच में डेरा किया, और हम ने उस की ऐसी महिमा देखी, जैसी पिता के एकलौते की महिमा। यीशु परमेश्वर का वचन है जो इस पृथ्वी पर देहधारण करके आया। इसलिए, मनुष्य के पुत्र का मांस यीशु के मांस को संदर्भित करता है जो देह में पृथ्वी पर आया था, अर्थात परमेश्वर का वचन।

मनुष्य के पुत्र का मांस खाने का अर्थ है परमेश्वर के वचन को परिश्रम से सीखना और अपनी आत्मिक रोटी बनाना। केवल परमेश्वर के वचन को ज्ञान के रूप में प्राप्त करना ही नहीं है, बल्कि सीखे हुए परमेश्वर के वचन के आधार पर उत्साहपूर्वक प्रार्थना करना है, स्वयं को जाँचना है, हृदय को एहसास करना और वचन को अपने हृदय में गहराई से स्थापित करना है।

मनुष्य के पुत्र का लहू पीना क्या है? आप कितना भी स्वादिष्ट और पौष्टिक खाना खा लें, अगर आप पानी नहीं पीयेंगे तो खाना पच नहीं सकता। उसी तरह, जब आप परमेश्वर के वचन को सुनते और सीखते हैं, यदि आप उसका अभ्यास नहीं करते हैं, तो आप उसे अपना नहीं बना सकते। इसलिए, मनुष्य के पुत्र का लहू पीना परमेश्वर के वचन को विश्वास के साथ क्रियान्वित करना है। जब आप परमेश्वर के वचन को सुनते हैं, अपनी कमियों को ढूंढते हैं, और वचन को अपने हृदय मे बोते हैं, तो आपको वचन का पालन करना चाहिए, बुराई को दूर करना चाहिए और ज्योति में कार्य करना चाहिए। तब, आप भोजन को जो कि, परमेश्वर के वचन है, पचा सकते हैं, और परमेश्वर की धार्मिकता को पूरा कर सकते हैं। यह मनुष्य के पुत्र का लहू पीना है।

जो लोग जानते हैं कि आत्मिक भोजन और पीने का क्या अर्थ है और मनुष्य के पुत्र का मांस खाते हैं और उसका लहू पीते हैं, उन्हें अपने कार्यों, हृदयों और विचारों में अपनी कमियों को खोजने और बदलने के लिए कड़ी मेहनत करते रहना चाहिए।

उन्हें यह जानने के लिए भी प्यासे रहना होगा कि वे कैसे प्रभु के प्रेम को चुका सकते हैं, परमेश्वर को प्रसन्न कर सकते हैं, और कैसे उन चीजों को करें जो परमेश्वर चाहता है। और उन्हें भूखे-प्यासे व्यक्ति की तरह लालसा के साथ परमेश्वर की धार्मिकता को प्राप्त करने का प्रयास करना होगा। फिर, वे परमेश्वर के वचन को सुनने के बाद उसका पालन कर सकते हैं, पाप और बुराई को दूर कर सकते हैं, और ज्योति में कार्य कर सकते हैं।

  1. पिता के विश्वास के साथ आत्मिक रूप से भूखें होने की आशीषें प्राप्त करने के लिए।

यदि हम धार्मिकता के भूखे-प्यासे हैं, तो हम पवित्रीकरण के लिए लालसा रखते हैं। इस प्रकार, हम और अधिक तेजी से उन चीजों को फेंक सकते हैं जिन्हें परमेश्वर हमें अपने हृदयों, विचारों और कार्यों से दूर करने के लिए कहता है। हम बाइबल के उन वचनों का पालन कर सकते हैं जो हमें करना, नहीं करना, रखना और निकाल फेंकनें के लिए कहते हैं।

जब इस धार्मिकता की भूख और प्यास के साथ, हम परमेश्वर के वचन को अपनी आत्मिक रोटी के रूप में लेते हैं और उसके अनुसार कार्य करते हैं। तब हम पाप और बुराई को दूर करेंगे और आत्मा के हृदय को प्राप्त करेंगे। जब हम ऐसा करते हैं तो हम आत्मा के जन बन जाते हैं। यह आत्मिक संतुष्टि की आषीषें है। इसके अतिरिक्त, यदि हम पूरी तरह से परमेश्वर के वचन पर चलते हैं, तो हम संपूर्ण आत्मा के जन बन सकते हैं, जो सिद्धता से परमेश्वर केे सदृष है। यदि हम पिता के सदृश हैं, तो वह हमें उसी हद तक अपना अधिकार और सामर्थ देगा।

जैसा कि 1 यूहन्ना 2ः13 कहता है, हे पिताओं, मैं तुम्हें लिख रहा हूँ, क्योंकि तुम उसे जानते हो जो आदिकाल से है… हम उन पिताओं के विश्वास को प्राप्त कर सकते हैं जो परमेश्वर की इच्छा को ठीक-ठीक जानते हैं और उसका पालन करते हैं, जो कि आत्मिक संतुष्टि की आशीष है।

पिता के समान महान विश्वास रखने के लिए, हमें आत्मिक भोजन करना चाहिए और विश्वास में अच्छी तरह बढना चाहिए। शारीरिक अर्थों में, जब बच्चे भी खाकर बड़े हो जाते हैं, तो वे युवा वयस्क और परिपक्व वयस्क बन जाते हैं जो अपने माता-पिता के हृदय को समझ सकते हैं। आत्मिक रूप से, यदि हम परमेश्वर की धार्मिकता का अभ्यास करते हैं, तो हम अपने विश्वास को बढ़ा सकते हैं, और परमेश्वर के हृदय के ज्ञान के साथ उसकी आज्ञा का पालन करने के स्तर तक पहुँच सकते हैं। दूसरे शब्दों में, हम आत्मिक रूप से संतुष्ट होने का आनंद ले सकते हैं।

जब हमारा आत्मिक विश्वास बढ़ता है और हमारे पास पिताओं का विश्वास होता है, तब सभी चीजों में समृद्ध होने की आशीष दी जाती है और हम शत्रु, दुष्ट और शैतान को दूर कर सकते हैं। साथ ही, हम आत्मिक हृदय को प्राप्त कर सकते हैं और परमेश्वर के गहरे हृदय को समझ सकते हैं। इस प्रकार, हम परमेश्वर के हृदय और उसकी इच्छा को समझ सकते हैं, और उसका पालन कर सकते हैं।

रोमियों 8:14 में लिखा है, इसलिये कि जितने लोग परमेश्वर के आत्मा के चलाए चलते हैं, वे ही परमेश्वर के पुत्र हैं। यदि हमारे पास आत्मा का विश्वास है तो हम परमेश्वर के साथ संवाद कर सकते हैं और आत्मा की अगुवाई प्राप्त कर सकते हैं और हर चीज में समृद्धि का आनंद ले सकते हैं। जब हम आत्मा से प्रेरित, प्रभावित और भरे हुए होते हैं और परमेश्वर के साथ संवाद में अपने दैनिक जीवन का नेतृत्व करते हैं, तो यह आत्मिक रूप से संतुष्ट होने की आशीष है।

मसीह में प्रिय भाइयों और बहनों, जो संतुष्ट होने की आशीष प्राप्त करते हैं, उनके पास किसी भी परीक्षा या आजमाइषों का सामना करने का कोई कारण नहीं है। यहां तक कि अगर बाधाएं हैं, तो परमेश्वर उनसे बचने के लिए हमें पवित्र आत्मा की अगुवाई देता हैं। मैं प्रभु के नाम से प्रार्थना करता हूं कि आप धार्मिकता के भूखे-प्यासे रहें, उद्धार और उत्तर की आशीषें प्राप्त करें, आत्मिक फल प्राप्त करें, आत्मा और संपूर्ण आत्मा के जन बनें, और सूर्य के समान चमकदार महिमामय स्वर्ग में रहें।

धन्यवचन 5 को पढ़ने के लिए यहां –  क्लिक करे

वीडियो में संदेशो को सुनने के लिए हमारे Youtube Channel – GCNTVHINDI से जुडे

Leave a Reply