• Post author:

आखिर मेरा दाहिना कान खुल गया

मैं बहरा पैदा हुई थी। जब मैं सात साल की थी, मैंने अपने दाहिने कान पर एक श्रवण यंत्र पहनना शुरू किया और लोगों की आवाजें सुननी शुरू कीं, लेकिन मैं इसे समझ नहीं पाती थी। नौ साल की उम्र में, मैंने चर्च में जाना शुरू कर दिया और मुझे पता चला कि स्वर्ग भी है तो मुझे शांति और खुशी महसूस हुई।

जुलाई 2008 में, मेरे पति के साथ मैं मानमिन सेंट्रल चर्च में गई। मैं सीनियर पास्टर डॉ. जेरॉक ली के आत्मिक संदेशों जैसे कि क्रूस का संदेशऔर विश्वास का परिमाण से हैरान थी। मेरे पति पास्टर जुनगून जी ने भी उनके संदेशो से बहुत अनुग्रह प्राप्त किया और ऑनलाइन वीडियो कॉन्फ्रेंस सिस्टम के माध्यम से मलेशिया में बहुत से बहरे लोगों तक पवित्रता का सुसमाचार पहुँचाया। जब 2010 में बधिरों के लिए पेनांग मानमिन चर्च स्थापित किया गया था, मेरे पति चर्च के पास्टर के पास गऐं। तब से, वह थाईलैंड, जर्मनी, और डेनमार्क सहित अन्य देशों में कई मूक-बधिर लोगों के लिए मानमिन की सेवकाई फैला रहे है।

जब मैंने सुना कि सीनियर पास्टर की प्रार्थना से बहुत से सदस्य चंगे हो गए हैं, और विशेष रूप से जब मेरे पति सहित बधिर लोग प्रार्थना ग्रहण करने के बाद वो सुनने लगे, तो मैं भी सुनना चाहती थी और मैं उत्साहित महसूस कर रही थी। इसी बीच, दिसंबर 2017 में मेरे दाहिने कान में टिनिटस (कानों में आवाज आना) हुआ और मैं अब श्रवण-संबंधी उपकरण का उपयोग नहीं कर सकती थी। तब मैं उत्सुक हो गई। जब दानिय्येल प्रार्थना सभा में मैंने स्तुति की, तो मैंने प्रार्थना की, परमेश्वर, मैं स्तुति की आवाज सुनना चाहती हूं। जब 2018 की मानमिन समर रिट्रीट निकट आयी, मैं अधिक से अधिक उत्सुक हो गई। मैं चाहती थी कि मेरे कान खुलें और मैं अपने पति की साइन लैंग्वेज (सांकेतिक भाषा) सभा के साथ बहरे सदस्यों की सेवा करने की लालसा करती थी। मैंने प्रार्थना और उपवास किया।

रिट्रीट में पहली रात को, रेव. सुजिन ली ने रूमाल के साथ बीमारों के लिए मंच पर प्रार्थना की, जिस पर सीनियर पास्टर ने प्रार्थना की थी (प्रेरितों के काम 19ः11-12)। मैंने मानमिन प्रार्थना केंद्र की अध्यक्ष बोकनिम ली की प्रार्थना भी ग्रहण की। जब उन्होंने मेरे ऊपर रूमाल रखा और प्रार्थना की, तो पवित्र आत्मा की आग मुझ पर आ गई और बैंग की आवाज की आवाज सुनाई दी। अगले दिन, मैंने हियरिंग ऐड नहीं पहना लेकिन मैं अपने दाहिने कान के माध्यम से स्तुति सुन सकती थी!

मैं अब सुन सकती हूं। मैं बहुत खुश हूं और अनुग्रह से भरी हुई हूं। मैं अब आंसुओं के साथ परमेश्वर को धन्यवाद की प्रार्थना करती हूं। मैं सारा धन्यवाद और महिमा परमेश्वर को देती हूं जिन्होंने मुझ पर पुनःसृष्टि की सामर्थ के साथ कार्य किया जिसने मेरी मृत नसों को फिर से जीवित किया और मुझे सुनने के योग्य बनाया।

Leave a Reply