Promises of God certainly fulfilled
परमेश्वर के वायदे निश्चित रूप से पूरे होगें – Promises of God certainly fulfilled

लेकिन कभी कभार वो समय जो परमेश्वर चाहता है
और वह समय जो मनुष्य चाहते हैं वह अलग हो सकता है।
मनुष्य की नजर में लगता है कि देरी हो रही है,
लेकिन परमेश्वर के दृष्टिकोण में,
सबसे उपयुक्त समय पर यह हो जाता है।
जब हम अंत तक बिना बदले परमेश्वर पर विश्वास करते हैं
तो वह हमें हमारी उम्मीद से भी अधिक
अद्भुत आशीषों के फल देता है।
वह उसे वास्तविकता बना देता है।
जिस पर हमने विश्वास किया है।

हमने अपने दर्षन को प्राप्त करने के लिए
प्रतिदिन प्रार्थनाऐं की है, जैसे कि
कलीसिया, उठ और प्रकाशमान हो,
वो भवन जो पूरे संसार भर में,
परमेश्वर की महिमा को प्रकट करता है।
कभी कभार यह कंटीली राहों जैसा लगता था,
और कभी-कभार ऐसा लगता था जैसे
हम एक चट्टान के किनारे पर खड़े हैं।
हम हर तरह से पीड़ित थे,
एक इंच आगे देखने में भी असमर्थ थे ।
अगर हमारे लिए परमेश्वर की योजना
पूरे संसार भर में सिर्फ सुसमाचार फैलाने के लिए
और केवल एक महिमामय भवन को बनाने की होती,
तो अब तक हम इसे पहले ही पूरा कर चुके होते।
लेकिन परमेश्वर वास्तव में क्या चाहता है?
मनुष्य जाति की जुताई का फल,
जो एक प्रक्रिया से पैदा होता है।
अंतिम समय में महिमामय भवन का निर्माण।
इसका अर्थ है कि
पर्याप्त संख्या में परमेश्वर की सच्ची संतान होगी।
इसका अर्थ है कि
परमेश्वर ने मनुष्यजाति की जुताई का उद्देश्य पूरा किया है।

हमारा विश्वसुसमाचार एक प्रकार की सेवकाई है
जो लोगों की स्वतंत्र इच्छा को बदल देगा।
जो गहराई से बुराई से धबित हैं।
उन्हें उद्धार का अवसर प्रदान करने के लिए।
इस तरह के प्रावधान को पूरा करने के लिए,
परमेश्वर ने हमें हमारे पात्र को सटीक योजनाओं में तैयार करने के लिए अगुवाई की है।

डॉ. जेरॉक ली के उपदेश से, खजानों का खजाना विश्वास है।

Leave a Reply