• Post author:
सीनियर डीकनेस नागाशिमा केइको

क्योंकि परमेश्वर है इसलिए मैं खुश हूं


सीनियर डीकनेस नागाशिमा केइको
हाल ही में , मैं और मेरे पति ने परमेश्वर की अद्भुत मदद का अनुभव कर एक खुशी भरा मसीह जीवन व्यतीत कर रहे है .

हमनें जो जमीन 20 सालो से किराए पर ली थी उसका अनुबंध नवीनीकरण कराना था , जिसके लिए 21 लाख येन (जापानी मुद्रा) की जरूरत थी . परंतु हमारे पास सिर्फ 1 लाख येन ही थे, तो हम घटी में थें .

जब हमनें पास्टर को इस बारें में बताया , तो उन्होने हमें भलाई के साथ करने को कहा और सामर्थ के रूमाल के साथ हमारे लिए प्रार्थना की ;प्रेरितो के काम 19ः11-12.तब मेरे छोटे भाई ने 8 लाख येन से मेरी मदद की , और हमे मालूम हुआ कि परमेश्वर हमारी मदद कर रहे है .

विश्वास के साथ , हम जमीदार के पास गए , जिन्होने हमारी सुनी और हमे एक आश्चर्यचकित करने वाला सुझाव दिया . 21 लाख येन में से , 9 लाख येन निकाल कर 12 लाख येन को 20 सालो के लिए 5 हजार की किस्त में हर महीने देनी होगी .


यह ऐसा कुछ है जो जापान में नही हो सकता था, जहां पर केवल अनुबंध ही इस्तेमाल किए जाते थें. यह परमेश्वर का कार्य है जिसने असम्भव को संभव कर दिया . मैं धन्यवाद देती हूं प्रेमी पिता परमेश्वर का, जो कठिनाइयो से बचाने के लिए कोमलता से अपने बच्चो की मदद करते है .

Leave a Reply