“मेरा पूरा परिवार जीवित परमेश्वर से मिला, और हमने गृह कलीसिया शुरू की“

मैं बचपन से ही चर्च जाता था। लेकिन परमेश्वर के वचनों का उल्ंल्घन करते हुए मैंने बहुत से पाप किए। उसके बावज़ूद भी मैं सोचता था कि मैं उ़द्धार पा सकता हूँ,। परन्तु मेरा जीवन निरर्थक हो गया था। मुझे जीने का कोई कारण नही मिल पा रहा था। मैं प्रार्थना करता था कि “हे परमेश्वर यदि जीना ऐसा होता है तो कृप्या मेरा जीवन ले लीजिए अन्यथा मुझे जीने की वजह और जीने का अर्थ बताइये।

2010 में, मेरा भाई एलेक्जेंडर तबरानू ने TBN रशिया चैनल के द्वारा रेव. जेराक ली के संदेशों को सुनना शुरू किया। संदेश बहुत ज्यादा दिलचस्प थे और उन संदेशों ने सत्य और जीवित परमेश्वर के बारे में सटीक उत्तर दिया, जिसे मैं ढूंढ रहा था।

मैं हर दिन रेव. ली के 4-5 संदेशों को सुनता था। उनमें से क्रूस के संदेश, विश्वास का परिमाण, आत्मा, प्राण और देह, दस आज्ञाऐं और प्रेम है।

विशेषतौर से मैंने सीखा कि किस प्रकार से पाप मनुष्य में आया और किस प्रकार से पापों को दूर करे। संदेश को सुनने के बाद जब मैंने प्रार्थना की तो पापों को दूर करने की मुझे ताकत मिली। रेव. जेराक ली के संदेशों ने मेरे जीवन को बदल दिया।

बीते समय में मैं नही जानता था कि प्रार्थना कैसे करे? और मैंने कभी महसूस भी नही किया कि हमें प्रार्थना भी करनी चाहिए। लेकिन अब मैं एक दिन में 2 घंटे से भी ज्यादा प्रार्थना करता हूं। मैंने अनुभव किया कि हम पवित्र आत्मा की मदद के द्वारा पापों को दूर कर सकते है जो मुझे दी गई थी जब मैंने प्रार्थना की।

2017 की गर्मियों में, मैं 45 दिनों के लिए मानमिन सेंट्रल चर्च गया और मैंने सेवकाई और संगठन के बारे में सीखा। मैं उन सदस्यों के भक्तिभाव को और जो देर रात तक भी प्रार्थना करते है उन्हें देखकर बहुत प्रभावित हुआ। जो कुछ मैंने सीखा था मैंने अपने चर्च मोलडोवा में उसे लागू किया और यह प्रभावी साबित हुआ। मुझे भी ना केवल मोलडोवा में बल्कि पूरे यूरोप में सुसमाचार करने का दृष्टिकोण  प्राप्त हुआ।

मैंने MIS (मानमिन इंटरनेशनल सेमीनरी) के कोर्स को खत्म किया। मैंने मोलडोवा के दूसरे शहरों में लिथुआनिया और रोमानिया में भी सुसमाचार का प्रचार किया। मैं इटली के पास्टर के साथ बाइबल फैलोशिप भी कर रहा हूं। मैं मोलडोवा में मानमिन की दो शाखा कलिसिया चिशिनाऊ और रेजिना में भी सेवा करता हूं। वहां पर सदस्य विश्वास में खुशी के साथ अपना जीवन जी रहे है क्योंकि उन्होंने सीनियर पास्टर के द्वारा बहुत से चिन्हों और आश्चर्यकर्मों  का अनुभव किया है।

एक्युट पल्मोनेरी हृदय रोग होने के कारण मेरी मां मौत के कगार पर थी। लेकिन सीनियर पास्टर की प्रार्थनाओं के द्वारा वो पूरी रीति से चंगी हो गई। मैं भी Acute Appendicitis (एक्युट अपेंडेसाइटिस) से चंगा हुआ। कलीसिया के सदस्य भी रक्त कैंसर, टी. बी., और अल्सर से चंगे हुए।

मैं सारा धन्यवाद और महिमा पिता परमेश्वर और प्रिय प्रभु को देता हूँ, मुझे सच्चे सुसमाचार को देने के लिए और मेरे जीवन को बदलने के लिए। मैं सीनियर पास्टर को भी धन्यवाद देता हूं जिन्होंने मुझे जीवन के वचनों को सिखाया और उदाहरण स्थापित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *