• Post author:
भाई कैलाश (आयु 26, इंदौर, भारत)

श्रवण दोष और कान में आने वाली आवाज ठीक हो गई

मैंने फरवरी 2017 में अपने एक दोस्त के साथ लड़ाई करने के बाद अपने बाएं कान की सुनने की क्षमता को खो दिया था। मैंने आत्मविश्वास को भी खो दिया क्योंकि इसके कारण मैं दूसरों के साथ सही से बातचीत नही कर पाता था। मैं हमेशा बेचैन रहता था कि कहीं मैं अपने बाएं कान के साथ-साथ दाहिने कान की भी सुनने की क्षमता खो सकता हूं।

अगस्त 2018 में, जब मैं पीड़ा में था, यूट्यूब पर, मैंने रेव. डा. जेराक ली की बीमारों वाली प्रार्थना देखी। मैं उनकी ईमानदारी से भरी प्रार्थना से प्रभावित हुआ और मैंने वीडियो में से देखकर दिल्ली मानमिन चर्च के नंबर पर कॉल किया।

पास्टर जॉन किम ने सुझाव दिया कि मैं रेव. जेरॉक ली के क्रूस का संदेश श्रृंखला को सुनूं। मैंने इस बात को सीखा कि परमेश्वर ने ज्ञान का वृक्ष क्यों लगाया है, परमेश्वर मनुष्यजाति की जुताई क्यों करते हैं, और यीशु मसीह के द्वारा उद्धार का प्रावधान।

मैं मसीही था लेकिन केवल नाममात्र का। उन संदेशों को सुनकर मैं खुशी और आनंद से भर गया क्योंकि मेरी आत्मिक प्यास बुझ गई। मैंने जी सी एन टी वी हिंदी चैनल पर मानमिन सेंट्रल चर्च की आराधना सभा के लाइव-प्रसारण में भाग लेना शुरू किया, जिससे मेरा जीवन बदल गया।

14 जनवरी, 2019 को जीसीएनटीवी हिंदी चैनल के दर्शकों की एक सभा हुई, जिसमें मैं एक दिन के उपवास के बाद षामिल हुआ। पास्टर जॉन किम ने एक संदेश दिया और हमारे लिए रूमाल के साथ प्रार्थना की, जिस पर रेव. जेरॉक ली ने प्रार्थना की थी (प्रेरितों के काम 19ः11-12)। मैंने उसी क्षण महसूस किया कि मेरे बाएं कान में सुनने की क्षमता वापस आ गई।

उसके बाद मैंने 3 दिन का उपवास किया, उसके बाद मैंने 25 जनवरी को शुक्रवार की रात्रि सभा में विशेष चंगाई सभा में भाग लिया। पास्टर सुजिन ली की रूमाल की प्रार्थना के बाद, मैं बहुत अच्छी तरह से सुन पा रहा था। हाल्लेलुयाह!

मैंने फरवरी की इस विशेष चंगाई सभा के लिए प्रार्थना के साथ तैयारी की, सीनियर पास्टर के संदेश क्रूस का संदेश और आत्मिक प्रेम के संदेष सुनकर। मैंने एहसास किया कि मैंने संसार से प्रेम रखा था और मैं नफरत और गुस्से से भरा था। मैंने उनके लिए पश्चाताप किया। मुझे खुशी थी कि मैं अपने पापों को संदेशों के माध्यम से जान पाया। 22 फरवरी की शुक्रवार रात्रि सभा में विशेष चंगाई सत्र में जब मैंने प्रार्थना ग्रहण की, उसके बाद मेरे कान में आने वाली आवाज भी दूर हो गई।

जब मैंने अपनी गवाही और जीवित परमेश्वर के बारे में अपने आसपास के लोगों को बताया, अब 15-20 लोग जीसीएनटीवी हिंदी चैनल पर एक साथ आराधना सभाओं के लाइव प्रसारण में भाग लेते हैं। सीनियर पास्टर के संदेश सत्य ही जीवन के वचन हैं जो कहीं और नहीं पाए जा सकते हैं। मैं इन आशीषित संदेशों को भारत में बहुत सी आत्माओं तक फैलाने के लिए एक यंत्र बनना चाहता हूं।

Leave a Reply