दशमांश और भेंटे क्या है और क्यों देनी चाहिए ?

दशमांश और भेंटे क्या है और क्यों देनी चाहिए

सीनियर पास्टर डॉ. जेरॉक ली

सारे दशमांश भण्डार में ले आओ कि मेरे भवन में भोजनवस्तु रहे; और सेनाओं का यहोवा यह कहता है, कि ऐसा कर के मुझे परखो कि मैं आकाश के झरोखे तुम्हारे लिये खोल कर तुम्हारे ऊपर अपरम्पार आशीष की वर्षा करता हूं कि नहीं।

(मलाकी 3ः10)।

सब्त रखना, यानी रविवार को एक पवित्र दिन रखना, और दशमांश देना हमारे मसीह जीवन में महत्वपूर्ण हैं। आइए प्रभु के दिन को पवित्र रखने से लेकर जारी पूरे दशमांश को देने के बारे में सीखें।

दशमांश और भेंटे क्या है और क्यों देनी चाहिए ? इस संदेश दूसरे भाग को पढ़ने के लिए यहां – क्लिक करे

दशमांश और भेंटे क्या है और क्यों देनी चाहिए ?

  1. दशमांश का अर्थ और शुरवात


“दशमांश“ का अर्थ परमेश्वर को अपनी आय का दसवां हिस्सा देना है। दशमांश पर क़ानून आधिकारिक तौर पर स्थापित किया गया था और मिस्र से निर्गमन के बाद इज़राइल के पुत्रों ने इसे भगवान को देना शुरू कर दिया था। बेशक, जैसा उत्पत्ति 14ः20 में लिखा है, अब्राहम ने दशमांश दिया। इसका मतलब है कि उसे पहले ही एहसास हो गया था कि उसे दष्रमांष को आधिकारिक क़ानून के रूप में स्थापित होने से पहले ही दशमांश देना होगा।

जैसा मलाकी 3ः10 में लिखा है, सारे दशमांश भण्डार में ले आओ कि मेरे भवन में भोजनवस्तु रहे, परमेश्वर ने लोगों को उस दशमांश को खर्च करने को कहा जो परमेश्वर के कामों को पूरा करने के लिए दिया गया था। यहाँ, भण्डार परमेश्वर के मन्दिर में भण्डार को द है। ’मेरे घर में भोजन हो ’ का भौतिक अर्थ है कि भौतिक भोजन होना चाहिए, लेकिन इसका आत्मिक अर्थ भी है। अर्थात्, परमेश्वर बता रहे है कि जीवन का भोजन हो, आत्मिक भोजन आत्माओ को देने के लिए। इसका मतलब है कि परमेष्वर के मंदिर में कोई कमी नहीं होनी चाहिए ताकि लोग परमेष्वर का सम्मान कर सकें और आत्माओं को बचाया जा सके।

निर्गमन के बाद, परमेश्वर ने लेवी के गोत्र को इस्राएल के बारह गोत्रों में से अपना होने के लिए अलग कर दिया। लेवी के पुत्रों को केवल वही काम करना था जो परमेश्वर की सेवा में थे। इसलिए जब इस्राएल के पुत्र कनान देश में गए, तब अन्य गोत्रो को उनका भाग मिला, परन्तु लेवियों को नही। भूमि के बदले, उन्हें लोगों द्वारा परमेश्वर को दिए गए दशमांश और अन्य भेंटों को प्राप्त करना था (व्यवस्थाविवरण 18ः1-2)।

आज कलीसिया में काम करने वाले पास्टरो और लेवियों के लिए, परमेश्वर स्वयं उनकी विरासत है। पास्टरो और लेवियों के लिए वेतन चर्च के सदस्यों द्वारा परमेष्वर को दिए जाने वाले भेंटो से दिया जाता है। हमें दशमांश और भेंटो को केवल परमेश्वर के कार्यों के लिए खर्च करना है, अर्थात् ऐसी चीजें जो सीधे तौर पर बचाने वाली आत्माओं से संबंधित हैं।

  1. दशमांश देने के कारण

1) दशमांश देना इस बात का प्रमाण है कि हम परमेश्वर में विश्वास करते हैं

एक किसान ने कड़ी मेहनत की और अच्छी फसल ली, लेकिन किसान अकेले अपने प्रयासों से फसल प्राप्त नहीं कर सकता था। ऐसा इसलिए है क्योंकि बीज परमेष्वर द्वारा बनाया गया है, और परमेश्वर ही है जो बीज को अंकुरित करने और फल देने के लिए मिट्टी, पानी, धूप, हवा और बारिश देता है। यह परमेश्वर ही है जिसने हमें स्वास्थ्य और कार्य करने की बुद्धि दी है।

बेशक, आज पैसे कमाने के कई तरीके हैं। लेकिन यह सिद्धांत हर चीज पर लागू होता है। किसी न किसी रूप में सभी उद्योगों का अपना आधार प्रकृति में होता है। प्रकृति में सब कुछ परमेष्वर द्वारा बनाया गया है। आख़रिकार, स्वयं जीवन और इस संसार की सभी चीज़ें सृष्टिकर्ता परमेश्वर की ओर से आई हैं, और सब कुछ परमेश्वर का है। यह सिर्फ इतना है कि परमेश्वर हमें उसका उपयोग करने और उसका आनंद लेने देता है, जिस हद तक हम इसके लिए काम करते हैं और इसके लिए मेहनत करते हैं।

दशमांश देना सभी भौतिक चीजों पर परमेश्वर की संप्रभुता को स्वीकार करना है। परमेष्वर ने अपने बच्चों को बहुत सी चीजें दी हैं, लेकिन उन्होंने केवल इतना अनुरोध किया कि उसे दशमांश दिया जाए। मान लीजिए कि कोई व्यक्ति उन सभी चीजों को प्राप्त करने के बाद सिर्फ दशमांश भी नहीं देता है।

हालाँकि परमेश्वर ने इसे बाइबल में कहा है, यह दर्शाता है कि वह व्यक्ति यह विष्वास नही करता है कि परमेश्वर पूरा नाप दबा दबाकर और हिला हिलाकर और उभरता हुआ उसकी गोद में डालेंगे जब वह पूरा दशमांश देता है। इसका मतलब है कि वह बाइबल पर विश्वास नहीं करता है और उसके पास विश्वास नहीं है। यदि वह परमेश्वर को नहीं मानता है, तो उसका उद्धार से कोई लेना-देना नहीं है।

क्या आप में से कोई है जो सोचता है, “मैं निश्चित रूप से परमेश्वर में विश्वास करता हूं, तो ऐसा क्यों कहा जाता है कि दशमांश देना परमेश्वर में विश्वास करना है?“ परमेश्वर आत्मा है, और हम जिनके पास भौतिक शरीर हैं, वे परमेश्वर में कैसे विश्वास कर सकते हैं? परमेश्वर ने अपने बहुमूल्य पुत्र यीशु को भेजकर अपने प्रेम को सिद्ध किया और दिखाया, और यीशु ने हमारे लिए अपना जीवन देकर अपने प्रेम को सिद्ध किया। हमारे साथ भी ऐसा ही है। अपने हृदय को दिखाने के सबसे महत्वपूर्ण तरीकों में से एक भौतिक चीज़ों में अपना हृदय दिखाना है।

बेशक, भौतिक चीज़ों के अलावा, हम आराधना, प्रार्थना, स्तुति, विश्वासयोग्यता और परोपकारी कार्यों के माध्यम से अपने हृदय को व्यक्त कर सकते हैं। साथ ही, प्रत्येक व्यक्ति का मूल्य अलग होता है। लेकिन अधिकांश लोगों के लिए भौतिक चीजें काफी हद तक जीवन के लिए तुलनीय हैं। मत्ती 6ः21 में यीशु ने यह भी कहा, “क्योंकि जहाँ तेरा धन है, वहीं तेरा मन भी रहेगा।“ इसलिए, यदि हम वास्तव में परमेश्वर में विश्वास करते हैं, तो हम दशमांश देंगे, जो हमारे विश्वास का न्यूनतम प्रमाण है।

बेशक, केवल दशमांश देने का कार्य यह तय नहीं करेगा कि उद्धार प्राप्त होगा या नहीं। कुछ लोग दूसरे लोगों की आंखों के कारण दोमुंहे पाखंड से दशमांश देते हैं। या, कुछ लोग विश्वास के साथ दशमांश दे सकते हैं, लेकिन वे ऐसा नहीं करते क्योंकि वे सत्य को स्पष्ट रूप से नहीं जानते हैं। कुछ लोग कहते हैं कि हम सिर्फ आशीश पाने के लिए दशमांश देते हैं।

कुछ यह भी सिखाते हैं कि दशमांश देने से आपको आशीशें मिलेगी, लेकिन आपको ऐसा करने की जरूरत नही हैं । हमें जो याद रखना है वह यह है कि हम परमेश्वर के लिए कितना भी काम करें, अगर हम दशमांश नहीं देते हैं, तो हम नहीं बच सकते। लेकिन नए विश्वासी जिन्होंने अपना दशमांश नहीं दिया क्योंकि वे नहीं जानते थे, वे शर्मनाक उद्धार प्राप्त कर सकते हैं यदि उनके पास सच्चाई का एहसास होने पर पूरा दशमांश देने का हृदय है।

दशमांश और भेंटे क्या है और क्यों देनी चाहिए ? इस संदेश दूसरे भाग को पढ़ने के लिए यहां – क्लिक करे

2) हम परमेश्वर की प्रतिज्ञा के अनुसार आशीषें प्राप्त कर सकते हैं

परमेश्वर हमसे कहता है कि हम उसे दशमांश दें ताकि उसकी सन्तानों को भरपूर आशीषें दें।

मलाकी 3ः10 में लिखा है, सारे दशमांश भण्डार में ले आओ कि मेरे भवन में भोजनवस्तु रहे; और सेनाओं का यहोवा यह कहता है, कि ऐसा कर के मुझे परखो कि मैं आकाश के झरोखे तुम्हारे लिये खोल कर तुम्हारे ऊपर अपरम्पार आशीष की वर्षा करता हूं कि नहीं।

वह उन लोगों को भी चाहता है जो विश्वास नहीं करते हैं, लेकिन जो कुछ वह कहता है उस पर संदेह करते हैं, ताकि वे उसकी परीक्षा लें ताकि वे विश्वास कर सकें और आज्ञा मान सकें। यह परमपिता परमेश्वर का प्रेम है जो उन्हें बचाना चाहता है और ऐसे चरम उपायों के माध्यम से भी उन्हें आशीशे देना चाहता है। माता-पिता हमेशा अपने बच्चों को अच्छी चीजें देना चाहते हैं। इसी तरह परमेष्वर भी अपने बच्चों को केवल अच्छी चीजें देना चाहता है।

लेकिन भले ही वह जितना हो सके हमें देना चाहता है, वह सिर्फ इसलिए नहीं दे सकता क्योंकि परमेश्वर के राज्य में न्याय है। यदि परमेश्वर बिना किसी उचित कारण के अपने बच्चों को आशीश देता है, तो शत्रु दुश्ट, शैतान इसका विरोध करेगा। इसलिए, अवश्य ही कोई ऐसा कारण होगा जिससे वह हमें आशीषें दे सके। यह प्रकृति का नियम है कि बीज बोने के बाद ही फल मिलेगा और बीज अंकुरित होगा। आत्मिक क्षेत्र में भी ऐसा ही है (गलातियों 6ः7)।

परमेष्वर को आशीश देने का आधार पाने के लिए, उसने अपने बच्चों को उन्हें कम से कम देने की आज्ञा दी, और वह कम से कम दशमांश है। हम निश्चित रूप से भगवान के बच्चों के रूप में तभी पहचाने जा सकते हैं जब हम पूरा दशमांश देते हैं। तब, हम उन आशीषों को प्राप्त कर सकते हैं जो परमेश्वर अपने बच्चों को देता है।

मसीह म प्रिय भाइयों और बहनों, मैं प्रभु के नाम से प्रार्थना करता हूं कि आप इस परमेश्वर पर भरोसा करेंगे जो अपने वादों को पूरा करता है और जो प्रेम से भरा है ताकि आपको भरपूर आशीशें मिले।

दशमांश और भेंटे क्या है और क्यों देनी चाहिए ? इस संदेश दूसरे भाग को पढ़ने के लिए यहां – क्लिक करे

Do follow our youtube channel – GCNTVHINDI

डां जेरॉक ली के और भी संदेशो को पढ़ने के लिए यहां – क्लिक करे

This Post Has 5 Comments

  1. Rani

    Amen. dhanyewad pita prmeshver ka ki humhe etne bahumulaye Sandesh ko diya jo humhe Sahi or galt ke bhed ko batate hai. Pita hamari galti ko shama karna Ke me abhi tuk dashmansh ka matlab nhi jaan pae. Mujhe lga tha ke dashmansh hamari marji se hum dete hai. Perbhu Mujhe shama karna .me age se apna pura vishavash krke Apna dashmansh du.pita me sari aader mahima Aapko deti Hu.

    1. john

      Yes, Dr jaerock lee’s messages are so much powerful that change lives all around the world.

  2. Rani

    Amen. dhanyewad pita ji.

  3. Vandana

    Very good message

Leave a Reply