दशमांश और भेंटे क्या है क्यों देनी चाहिए भाग – 2

दशमांश और भेंटे क्या है और क्यों देनी चाहिए

सीनियर पास्टर डॉ. जेरॉक ली

सारे दशमांश भण्डार में ले आओ कि मेरे भवन में भोजनवस्तु रहे; और सेनाओं का यहोवा यह कहता है, कि ऐसा कर के मुझे परखो कि मैं आकाश के झरोखे तुम्हारे लिये खोल कर तुम्हारे ऊपर अपरम्पार आशीष की वर्षा करता हूं कि नहीं। (मलाकी 3ः10)।

कुछ लोग कहते हैं कि केवल आशीश प्राप्त करने के लिए दशमांश देना सच्चा विश्वास दिखाना नही है। परमेश्वर ने वादा किया था कि जब हम उस पर विश्वास करेंगे और उसके वचन के अनुसार कार्य करेंगे तो वह हमें आत्मिक और भौतिक आशीष देगा। चाहे हम अंदर आ रहे हों या बाहर जा रहे हों, उसने हमें आशीश देने का दृढ़ता से वादा किया; हमे प्रदान करने के लिए ताकि हम उधार दे सकें लेकिन उधार नहीं ले सकें; और सिर बने, न कि पूँछ (व्यवस्थाविवरण 28ः1-14)।

मुझे आशा है कि आप प्रभु के दिन को पवित्र रखने और मसीह मूल के सभी दशमांश और भेंटे देकर परमेश्वर की संतान के रूप में अधिकार और आशीश का आनंद लेंगे।

दशमांश और भेंटे क्या है क्यों देनी चाहिए इस संदेश का पहले भाग को पढ़ने के लिए यहां – क्लिक करे

पूरा दशमांश कैसे दें
1) पूरा दशमांश देने के लिए हमें कुल आय का दसवां भाग देना होता है। उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि एक व्यक्ति को वेतन के रूप में 1000 रूपये मिलते हैं, लेकिन क्योंकि कर, पेंशन और बीमा काट लिया जाता है, उसे केवल 800 रूपये मिलते हैं घर ले जाने के लिए। वह सोचता है कि उसकी आय 800 रूपये है और वह अपने दशमांश के रूप में 80 रूपये देता है।

क्या यह सही है? हम कह सकते हैं कि वह पूरा दशमांश देता है जब वह अपने वेतन की कुल राशि का उपयोग करता है, अर्थात् 1,000 रूपये जो उसकी वास्तविक आय है। कर और अन्य भुगतान उसके व्यक्तिगत खर्चे हैं।

साथ ही, कुल आय में न केवल नकद आय, बल्कि आय के अन्य रूप भी शामिल हैं। अर्थात्, यदि हमें किसी दूसरे के द्वारा भोजन कराया जाता है या यदि हमें दूसरों से कोई उपहार मिलता है, तो हमें इन चीजों के लिए भी दशमांश देना होगा। हमें नियमित आय, बोनस, नकद उपहार और अन्य उपहारों को शामिल करके सभी प्रकार की आय के लिए दशमांश देना चाहिए।

2) हमें दशमांश को अन्य भेंटों से अलग रखना है।

कुछ लोग सोचते हैं कि वे अपनी आय से परमेश्वर को दी जाने वाली भेंट को अपनी आय से काट लेते हैं और शेष राशि से दशमांश देते हैं। इसके अलावा, कुछ, दशमांश देते समय कहते हैं, “कृपया इसका एक हिस्सा धर्मार्थ कार्यों के लिए उपयोग करें।“ यदि हम अपना दशमांश अन्य प्रयोजनों के लिए देते हैं, तो यह पूरे दशमांश का हिस्सा नहीं है।

दशमांश, कुल आय का 10 प्रतिशत , ’दशमांश’ नाम से दिया जाना चाहिए और अन्य भेंटो से अलग रखा जाना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि दशमांश परमेश्वर का है। यदि हम अपना दशमांश अन्य प्रयोजनों के लिए देते हैं, तो यह दशमांश नहीं है, बल्कि एक भेंट है क्योंकि हम अपने विवेक से परमेश्वर के धन के उपयोग को निर्धारित कर रहे हैं।

3) हमें उस चर्च को दशमांश देना चाहिए जहाँ से आप आत्मिक रोटी प्राप्त करते हैं, ठीक उसी तरह जैसे आपको उस अस्पताल का भुगतान करना चाहिए जहाँ आपने अपना चिकित्सा उपचार प्राप्त किया था और आप अपने स्कूल को ट्यूशन शुल्क का भुगतान करते हैं जिस स्कूल में आप जाते है । दशमांश देने के सिद्धांत के साथ भी ऐसा ही है। बेशक, आप अपनी पसंद के अनुसार धन्यवाद की भेंट, भवन निर्माण की भेंट, या अन्य भेंट दे सकते हैं और नामित कर सकते हैं। लेकि कृपया ध्यान रखें कि आपको अपना दशमांश उस चर्च को देना चाहिए जहां आपकी आत्मा है और जिसका पोषण किया जाता है।

4) दशमांश प्रत्येक व्यक्ति के नाम से दिया जाना चाहिए। दशमांश परिवार के नाम या पति और पत्नी दोनों के नाम के तहत नहीं दिया जा सकता है। उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि पत्नी केवल एक गृहिणी है और पति पैसे कमा रहा है। उनमें से कुछ अपने दोनों नामों के तहत दशमांश देते हैं। लेकिन दशमांश प्रत्येक व्यक्ति के नाम से, प्रत्येक की आय से दिया जाना चाहिए। स्वर्ग में, प्रत्येक के कर्मों के अनुसार, पुरस्कार अलग-अलग होते हैं।

इसलिए, जब हम परमेश्वर को भेंट देते हैं, तो हमें अपने व्यक्तिगत नाम से देना होता है। कभी-कभी पति-पत्नी की आय एक समान हो सकती है। वे अपने दोनों नामों के तहत दशमांश दे सकते हैं, या वे लाभ को दो हिस्सों में विभाजित कर सकते हैं या अनुपात में वे सहमत हो सकते हैं और फिर प्रत्येक के नाम के तहत दशमांश दे सकते हैं।

5) हमें न केवल नियमित आय पर बल्कि अतिरिक्त आय पर भी दशमांश देना होता है। कुछ लोग कहते हैं कि वे बेरोजगार हैं और उनके पास दशमांश देने के लिए आय नहीं है। लेकिन ऐसा कोई नहीं है जिसके पास देने के लिए दशमांश न हो। क्योंकि उन्हें खाने के लिए कुछ मिलता है, पहनने के लिए कपड़े और परिवहन खर्च, लोग जीने के लिए सक्षम हैं। उदाहरण के लिए, पत्नी एक गृहिणी है और उसे अपने पति से रहने का खर्च मिलता है।

उस रहने के खर्च का एक हिस्सा है जिसे वह अपने लिए में खर्च कर सकती है। अगर वह अपने दोस्तों के साथ लंच या डिनर के लिए मिलती है या अपने खाली समय में कुछ करती है, तो उस तरह का खर्च उसकी ’आय’ है। जब बच्चे अपने माता-पिता या रिश्तेदारों से पॉकेट मनी प्राप्त करते हैं, या उन्हें अपने दोस्तों से कुछ उपहार प्राप्त हो सकते हैं, तो उन्हें भी दशमांश देना चाहिए।

5) हमें महीने में कम से कम एक बार दशमांश देना चाहिए। कुछ लोग साल में एक या दो बार ही दशमांश देते हैं। लेकिन उन्हें महीने में कम से कम एक बार अपना दशमांश अवश्य निर्धारित करना चाहिए। बेशक, अपवाद भी हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, किसानों के लिए हर महीने दशमांश देना मुश्किल हो सकता है। साथ ही, कुछ लोगों की नियमित आय नहीं होती है। ऐसे मामलों को छोड़कर, हमें महीने में कम से कम एक बार दशमांश देना चाहिए।

7) हमें सबसे पहले अपनी कुल आय में से दशमांश देना होगा। हमारी आय मे से दशमांश सबसे पहले देना उचित है और फिर बचे हुई राशि व्यय के अनुसार खर्च कर सकते है। अगर हम आय प्राप्त करने के तुरंत बाद दशमांश निकाल लें और अलग कर दें, तो हम ऐसी स्थिति से बच सकते हैं जहां हम दशमांश नहीं दे सकते क्योंकि हमारे पास कोई पैसा नहीं होता है ।

दशमांश और भेंटे क्या है क्यों देनी चाहिए इस संदेश का पहले भाग को पढ़ने के लिए यहां – क्लिक करे

  1. संपूर्ण भेंट को कैसे दें

1) भेंट का अर्थ

भेंट दशमांश के अलावा सभी प्रकार के मौद्रिक और परमेश्वर को दिए जाने वाले अन्य प्रकार की भेंट हो सकती हैं। लैव्यव्यवस्था की पुस्तक में, हम कई प्रकार की भेंट पा सकते हैंः होमबलि, अन्नबलि, मेलबलि, पापबलि और दोषबलि। साथ ही, पुस्तक में परमेश्वर को दिए जाने वाले बैल, भेड़, बकरी, कबूतर, अनाज और फलों के बारे में विस्तार से बताया गया है। आज, हम पुराने नियम के समय की तरह बलिदान और भेंट नहीं देते हैं, लेकिन हमारे पास अभी भी आराधना सेवाओं में भाग लेने और भेंट देने में उनका आत्मिक अर्थ है।

भेंट के मामले में, हमारे पास धन्यवाद, चर्च निर्माण, पर्व, धर्मार्थ, मिशनरी और पाप की भेंटे हैं। हम परमेश्वर को चावल और अन्य प्रकार की चीजें भी चढ़ा सकते हैं जो परमेश्वर के राज्य के लिए आवश्यक हैं। आज के संदेश में, परमेश्वर कहते हैं कि अगर हम दशमांश और भेंट नहीं देते हैं तो यह भी परमेश्वर को लूटना है। यदि हमारे पास विश्वास है, तो हम परमेश्वर को दशमांश के साथ साथ भेंटे देने के अलावा कुछ और नहीं कर सकते (मत्ती 6ः20-21)।

यदि हम स्वर्ग की आशा के साथ भेंट चढ़ाते हैं, तो हमारे स्वर्गीय पुरस्कारों को संग्रहित किया जाएगा। परमेश्वर पृथ्वी पर रहते हुए हमारे परिवारों, कार्यस्थलों और व्यवसायों को भी सुरक्षित रखेगा। कुछ लोग सोच सकते हैं कि वे एक कठिन परिस्थिति में हैं और उनके पास देने के लिए कुछ नहीं है। हर कोई अभी भी बहुत कम से कम भेंट दे सकता है। परमेश्वर को भेंट की मात्रा वास्तव में मायने नहीं रखती है। यह भेंट में निहित प्रेम और हृदय है (लूका 21ः1-4)।

२) भेंट को कैसे चढ़ाएं करें

सबसे पहले, हमें वह देना होगा जो बिना किसी दोष के है। लोगों के बीच भी, जब हम किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति को उपहार देते हैं, तो हम ऐसा कुछ नहीं देते हैं जिसमें दोष या खराबी हो। हम एक अच्छी पैंकिंग में सर्वोत्तम गुणवत्ता का कुछ देते हैं (मलाकी 1ः8)। बिना दोष के भेंट का अर्थ है कि जो व्यक्ति भेंट और चढ़ावा दे रहा है उसके हृदय में कोई दोष नहीं होना चाहिए। इसलिए, जब हम परमेश्वर को भेंट चढ़ाते हैं, तो सबसे पहले हमें हर्षित मन से देना चाहिए (2 कुरिन्थियों 9ः7)। यदि हमारे पास कोई पाप या अधर्म है, तो हमें पहले पश्चाताप करना होगा,

और फिर भेंट देना होगा, ताकि परमेश्वर उन्हें खुशी से स्वीकार कर सकें। केवल हृदय ही नहीं, परन्तु जब तुम भेंट चढ़ाओ, तो भेंट में भी कोई दोष न हो। हमें परमेश्वर को ऐसे नोट देने चाहिए जो गंदे या फटे नहीं बल्कि साफ और नए हों। इसके अलावा, भेंट के लिए भी, आपको केवल अपने लिए खर्च करने के बाद जो कुछ बचा है उसमें से भेंट नहीं देना चाहिए, बल्कि आपको उन्हें भी दशमांश की तरह पहले ही से अलग करना चाहिए।

दूसरा, हमें भेंट देने में अपना मन नहीं बदलना चाहिए। जो हमें धन्यवाद भेंट के रूप में देना है, वह हमें धन्यवाद भेंट के रूप में देना है। ऐसा ही चर्च निर्माण भेंट के साथ भी है (व्यवस्थाविवरण 23ः23)। मान लीजिए आपने एक भवन निर्माण भेंट की मन्नत की, और यदि आप बाद में उस राशि को दान या अन्य भेंट के रूप में देते हैं, तो यह सही नहीं है। साथ ही, भेंट की राशि को भी नहीं बदला जाना चाहिए।

इसके अलावा, जब आपके पास कुछ बेहतर होता है, तो आप इसे पहले वाले के साथ सिर्फ इसलिए नहीं बदल सकते क्योंकि आपको लगता है कि बाद वाला बेहतर है। यदि आप वास्तव में परमेश्वर को कुछ बेहतर देना चाहते हैं, तो आपको पहले और बाद वाले दोनों को देना होगा (लैव्यव्यवस्था 27ः9-10)।

तीसरा, जो कुछ तुम परमेश्वर को देते हो उसे वेदी पर चढ़ा देना चाहिए और प्रार्थना करनी चाहिए। यहां तक कि पुराने नियम की भेंटो को भी याजकों ने छुआ और उनके नियंत्रण में चढ़ाया गई। अर्थों में से एक यह है कि उन्हें परमेश्वर के लिएं सील कर दिया गया है। यही कारण है कि आज अराधना में पास्टर भेंट पर हाथ रखता है और उस पर प्रार्थना करता है।

यह भेंट को परमेश्वर के लिए अलग करना और सील करना है ताकि वह विश्वासियों द्वारा दिए गए भेंट को स्वीकार कर सके। इसलिए, जो कुछ परमेश्वर को दिया जाता है वह वेदी पर रखा जाना चाहिए और प्रार्थना की जानी चाहिए ताकि इसे परमेश्वर द्वारा स्वीकार किया जा सके, और भेंट देने वाला आशीश प्राप्त कर सके।

दशमांश और भेंटे क्या है क्यों देनी चाहिए इस संदेश का पहले भाग को पढ़ने के लिए यहां – क्लिक करे

Do follow our youtube channel – GCNTVHINDI

डां जेरॉक ली के और भी संदेशो को पढ़ने के लिए यहां – क्लिक करे

Leave a Reply